दुष्ट और साँप में अच्छा कौन?

तृतीय अध्याय नीति :3-4

दुष्ट और साँप में अच्छा कौन?

चाणक्य नीति के तृतीय अध्याय के चौथी नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि दुष्ट व्यक्ति और सांप में, सांप अच्छा है न कि दुष्ट व्यक्ति। क्योंकि सांप तो कभी कभार मनुष्य को डसता है पर दुष्ट तो हमेशा डसता रहता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s