इनका त्याग देना ही श्रेयस्कर है

चतुर्थ अध्याय नीति : 16

इनका त्याग देना ही श्रेयस्कर है

चाणक्य नीति के चतुर्थ अघ्याय के सोलहवीं नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जिस धर्म में दया न हो उस धर्म को छोड़ देना चाहिए, जो गुरू विद्वान न हो, उसे छोड़ देना चाहिए। क्रोधी पत्नी को त्याग देना चाहिए। जो भाई—बंधु, सगे संबंधी प्रेम नहीं रखते हों उससे संबंध नहीं रखना चाहिए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s