जिनका उपयोग नहीं उनका होना बेकार है

चतुर्थ अध्याय नीति : 9

जिनका उपयोग नहीं उनका होना बेकार है

चाणक्य नीति के चतुर्थ अघ्याय के नौवीं नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि अनुपयोगी वस्तुओं का होना न होने के बराबर है। जो गाय  न तो दूध देती है और न ही गर्भधारण करती है। ऐसी गाय का होना न होने के बराबर है। इसी तरह जो पुत्र न तो विद्वान हो न ही भक्त हो, उस पुत्र का होना न होने के बराबर है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s