धन का प्रभाव

षष्ठम अध्याय नीति : 5

धन का प्रभाव

चाणक्य नीति के  षष्ठम अघ्याय के पाँचवी नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि धनवान के अनेक मित्र बन जाते हैं। बंधु—बांधव भी उसे आ घेरते हैं। धनवान को ही आज के युग में विद्वान और सम्मानित व्यक्ति माना जाता है। इस प्रकार धनवान को ही विद्वान एवं ज्ञानवान भी समझा जाता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s