विद्या बिना जीवन व्यर्थ है

सप्तम अध्याय नीति : 18

विद्या बिना जीवन व्यर्थ है

चाणक्य नीति के सप्तम अघ्याय के अठारहवीं नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जिस प्रकार कुत्ते की पूँछ से न तो उसके गुप्त अंग छिपते हैं और न वह मच्छरों को काटने से रोक सकती है। इसी प्रकार विद्याहीन व्यक्ति न तो अपनी रक्षा कर सकता है न अपना भरण—पोषण। वह न अपने परिवार की दरिद्रता को दूर कर सकता है और न ही शत्रुओं के अतिक्रमण को ही रोकने में समर्थ हो सकता है। अत: विद्या के बिना मनुष्य का जीवन व्यर्थ है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s