करने के बाद क्या सोचना

चतुर्दश अध्याय नीति : 7

करने के बाद क्या सोचना

चाणक्य नीति के चतुर्दश अघ्याय के सातवीं नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि बुरा काम करने पर आत्मग्लानि होता है और बुद्धि ठिकाने पर आ जाती है। यदि ऐसी बुद्धि पहले ही आ जाए तो पछताना ही नहीं पड़े। अत: कोई भी काम सोच—समझकर ही करना चाहिए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s