चांडाल कर्म

पंचदश अध्याय नीति : 11

चांडाल कर्म

चाणक्य नीति के पंचदश अघ्याय के ग्यारहवी नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि घर में कोई व्यक्ति दूर से पैदल चलकर, थककर आ जाए चाहे वह बिना किसी काम के ही क्यों न आया हो, उसका आदर—सत्कार करना चाहिए। जो उसे भोजन कराए बिना स्वयं भोजन करता है उसे चांडाल मानना चाहिए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s