महापुरूष

द्वादश अध्याय नीति : 3 महापुरूष चाणक्य नीति के द्वादश अघ्याय के तीसरी नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो अपने लोगों से प्रेम,