बुद्धि भाग्य के पीछे चलती है

षष्ठम अध्याय नीति : 6 बुद्धि भाग्य के पीछे चलती है चाणक्य नीति के षष्ठम अघ्याय के छठी नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि

Continue reading

समय की सुझ

तृतीय अध्याय नीति :3-19 समय की सुझ चाणक्य नीति के तृतीय अध्याय के उन्नीसवें नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि उपद्रव यानि लड़ाई—झगड़ा, दंगा—फसाद

मूर्ख एवं विद्याहीन व्यक्तियों का त्याग करें

तृतीय अध्याय नीति :3-7&8 मूर्ख एवं विद्याहीन व्यक्तियों का त्याग करें चाणक्य नीति के तृतीय अध्याय के सातवीं नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि